Home Tech Review Android क्या है? जाने एंड्राइड का इतिहास और सभी Versions

Android क्या है? जाने एंड्राइड का इतिहास और सभी Versions

1
history of android versions

जैसा के हमसब जानते है आजकल ज़्यादातर काम ऑनलाइन होने लगा है, टेक्नोलॉजी बहुत तेज़ी दे विकसित होती जा रही है और हर घर में स्मार्टफोन उपलब्ध है तो लगभग सभी Android के बारे में जानते है और जानना भी चाहिए। हमसब जो भी सामान इस्तेमाल करते है उसके बारे में जानना और उसकी हिफज़ार करना तो लाज़िम है।

कुछ बेसिक जानकारी रहने से कोई सामान जैसे के एंड्राइड स्मार्टफोन थोड़ा बहुत खराब होने पे हम जान सकेंगे के इसमें दिक्क्त क्या है और इसका हल कैसे निकलेगा जिससे हमे मोबाइल रिपेरिंग शॉप पे जाने की ज़रूरत भी नहीं पड़ेगी और हमारे कुछ पैसों की भी बचत हो जाएगी।

आप में से कुछ लोग तो यह जानते होंगे की Android एक ऑपरेटिंग सिस्टम है पर क्या आप यह जानते है के एंड्राइड  किस कंपनी द्वारा विकसित किया गया सॉफ्टवेयर है? एंड्राइड का इतिहास क्या है? एंड्राइड के लेटेस्ट वर्शन कौन कौन से है? एंड्राइड सॉफ्टवेयर अपडेट न करने से क्या क्या परेशानिया आती है और आप कैसे एंड्राइड सीख सकते है? आइये जानते है-

Android क्या है?

Android एक मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम है जो कि मुख्या रूप से मोबाइल को नज़र में रखते हुए बनाया गया है यानी मोबाइल के पूरे सिस्टम हो अच्छे से चलने में “एंड्राइड सिस्टम सॉफ्टवेयर” मुख्या रूप से योगदान देता है। इस सॉफ्टवेयर के होने के वजह से ही हम स्मार्टफोन को सही तरह से यूज़ कर पातें है। ये ऑपरेटिंग सिस्टम सिर्फ स्मार्टफोन में ही नहीं बल्कि tablets, स्मार्ट वॉच, स्मार्ट स्पीकर आदि में भी होते है।

एंड्राइड का इतिहास

Android सॉफ्टवेयर को अमेरिका के निवासी Andy Rubin ने विकसित किया, फिर कुछ सालों बाद इस सॉफ्टवेयर google ने इसे खरीद लिया था और साथ ही एंडी रुबिन और उनकी टीम को android का मुख्य बना दिया गया था। गूगल ने यह सॉफ्टवेयर ख़रीदा क्यूंकि यह सॉफ्टवेयर गूगल को बहुत इंटरेस्टिंग और नयी टेक्निकल एप्रोच नज़र आई। Andy Rubin ने कुछ सालो बाद 2013 में google कंपनी से इस्तीफा दे दिया और फिर उनकी जगह Sunder Pichai एंड्राइड के हेड बन गए और इस प्रोजेक्ट में अच्छी गति दी और सफलता पाई। एंड्रॉइड 2013 के बाद से टैबलेट पर दुनिया भर में सबसे अधिक बिकने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम रहा है। और तो और 2017 में एंड्राइड के 2 billion यूजर रह चुके है वो भी हर महीने। एड्रोइड से जुड़ने के बाद google की reach भी काफी बढ़ती नज़र आई थी।

इसके अलावा ये बता दें के Android एक Open Source Software है यानि के इस सॉफ्टवेयर को कोई भी use कर सकता है, जी हां, इसकी मदद से कंपनियां और भी सॉफ्टवेयर बना सकती है और इसे छात्र पढ़ भी सकते है।

आइये एंड्राइड के Versions के बारे में जानें

Google हर साल android के नए version तमाम users के लिए लाता है जिसमे नए-नए फीचर होते है, Android Version 1.0 को सबसे पहला और पावरफुल वर्शन माना जाता है और सबसे नया Android version – Android 11 है जो कि 8 सितम्बर 2020 में रिलीज़ हुआ है। आजतक के इसके सभी लिस्ट निचे दिए गए है-

  • Android 1.0 Alpha,
  • Android 1.1 Beta,
  • Android 1.5 Cupcake,
  • Android 1.6 Donut
  • Android 2.0 Eclair,
  • Android 2.2 Froyo,
  • Android 2.3 Gingerbread
  • Android 3.0 Honeycomb
  • Android 4.0 Ice Cream Sandwich
  • Android 4.1 Jelly Bean
  • Android 4.4 KitKat
  • Android 5.0 Lollipop
  • Android 6.0 Marshmallow
  • Android 7.0 Nougat
  • Android 8.0 Oreo
  • Android 9.0 Pie
  • Android 10
  • Android 11

कुछ एंड्राइड के उनके अपडेटेड version भी आये थे जैसे – Android 2.0 Eclair का अपडेटेड version 2.1 था इसके जैसा Gingerbread में भी 2.3.7 आया था, ऐसे और भी है।

Android 1.0 Alpha

इस version में main 4 features थे – The Google Maps, App Store, Gmail integration Scroll Down Notification Bar. कुछ अन्य features – Youtube, calendar, Google browser, Google contacts and Google talk है।

Android 1.1 Beta

यह version T-Mobile G1 नाम से जाना जाता है जो की April 2009 में रिलीज़ हुआ था, इस version में कुछ सुधार आए, जैसे google map में reviews दिखने लगे और पहले से ज़्यादा डिटेल्स मिल रही थी।

Android Cupcake (version 1.5)

इसे Android Cupcake नाम से जाना जाता है, इस version में काफी फीचर्स उपलब्ध थे उनमे से “third party keyboard” और youtube पे डायरेक्ट अपलोड करने का ऑप्शन। yummy desserts के बाद google ने versions के अलग अलग नाम रखना बंद कर दिया था।

Android Donut (Version 2.2)

Cupcake के बाद google ने Android Version 2.2  का कोड नाम “Donut” रखा, इस वर्शन की स्पेशल फीचर्स जैसे enhanced यूजर एक्सपीरियंस, text-to speech support, improved video aspects, Larger screen-size support, turn-by-turn navigation facilities और refined search integration ने google को smartphone के competitive मार्किट में काफी समय तक बने रहने में बेहतरीन भूमिका निभाई।

Android Eclair (Version 2.3)

चॉकलेट भरी हुई पेस्ट्री के नाम पे इस version का नाम रखा गया “Eclair”. Android Eclair, 2009 में रिलीज़ हुआ था। इसके बाद इसके 2 bug version भी आए जिसमे से 2010 में Android 2.1 में एनीमेशन फीचर भी ऐड किया गया था। Android Éclair का कुछ फीचर्स flash and digital zoom, multi-touch support mechanism and of course, Bluetooth 2.1 support और Google map navigation मेन और हाइलाइटेड फीचर था।

Android Froyo (Version 2.4)

ये version मेनली अच्छी स्पीड के लिए जाना जाता है और unique redesigned home screen फीचर भी बेहतरीन है जिससे की इसकी functionality भी कमल की है।

Android Gingerbread (Version 2.5)

यह एक मशहूर ginger cookie के नाम पे  रखा गया है “Android Gingerbread”, ये अपने बहुत से फीचर्स से जाना जाता है जैसे इसमें कई Camera है, SIP internet calling, download manager और कुछ sensors जैसे barometer, gravimeter etc.

Honeycomb (Version 3.0)

Google ने ये 3.0 version, febraury 2011 में रिलीज़ किया था और इसे “honeycomb” नाम दिया था, ये version मुख्या रूप से Tablets के लिए बनाया गया था। हलाकि gingerbread Android का पहला अपडेटेड tablet वर्शन है।

Android Ice Cream Sandwich (Version 4.0)

4.0Android version मुख्या रूप से अपने बेहतरीन functionality और अच्छी designing के लिए जाना जाता है। डिफ़ॉल्ट फ़ॉन्ट का परिचय Ice cream Sandwich का एक और आकर्षण था। इस संस्करण के बाद से Google अपनी सारी services Google Playstore में लाता रहता है।

Android Jelly Bean (Version 4.1)

ये Android 4.1 version जिसे Jelly Bean से जाना जाता है – अपने “highly interactive notifications” और ‘voice typing’ features के लिए जाना जाता है जिससे  overall performance बेहतरीन बढ़ी हुई मिली और पॉपुलैरिटी और बढ़ गयी।

Android KitKat (Version 4.4)

Google ne Android 4.4 version, 2013 में रिवील किया था जिसे Kitkat के नाम से जाना जाता है।  Google एक famous dessert नाम चाहता था जिसे सभी जानते हों, और इसलिए कोड नाम Kitkat के लिए नेस्ले के साथ भागीदारी की। संस्करण 4.4 नेक्सस 5 पर शुरू हुआ, और पहले के Android संस्करणों की तुलना में प्रभावी रूप से कई उपकरणों पर चल सकता है। इसमें कई features मिले जिनमे से एक फीचर ये था के यह OS कम RAM वाली devices पर भी run कर सकता था। इसपर Google keyboards पे दिलचस्प emojis भी use करने को मिले।

Android Lollipop (Version 5.0)

Version 5.0 के साथ, लोकप्रिय रूप से लॉलीपॉप के रूप में जाना जाता है, Android स्मार्टफोन से टीवी और यहां तक कि स्मार्ट घड़ियों तक उपकरणों की एक विस्तृत श्रृंखला में फैल सकता है। लॉलीपॉप बिल्कुल नए रनटाइम के साथ निकला। Battery saving feature से विभिन्न devices पर उत्कृष्ट बैटरी लाइफ save करती थी।

Android Marshmallow (Version 6.0)

Android 6.0 version का कोड नाम Marshmallow है इसके कुछ upgrade features ने बहुत बड़ा प्रभाव डाला था, जब users ने इस version को यूज़ करना शुरू की तोह वे बेहद खुश हुए क्यूंकि इसमें काफी नए फीचर्स मिले New app drawer से अब horizontal scroll किया जा सकता था जिससे navigation बहुत तेज़ी से होने लगा और UI और अच्छा माना जाने लगा। lockscreen में भी छोटा सा change google ने किया है – camera और dialer shortcuts के जगह voice commands कर दिया है। Google Now on Tap भी एक main feature है इस version का, ये कुछ इस तरह से यूज़ में आता है जैसे आप अपने दोस्त से chat में discuss कर रहे हो किसी restaurant  के बारे में तो home बटन देर तक press करने पर google आपको सुझाव देगा की कौनसा better restaurant है जिसके बारे में आप search कर रहे होते है। यानि के आपको realtime हेल्प मिलेगी google से। एक बेहतरीन फीचर “Doze Mode” है जो की आपकी battery लाइफ को काफी हद तक सेव करने में सहायक है, इस Android version में काफी नए features users को मिले  जैसे fingerprint support, Android Pay जिससे आप payment आसानी से कर सकते है कुछ और भी फीचर्स है System UI Tuner, RAM memory manager, USB Type-C and USB 3.1 support, Chrome Custom Tabs इत्यादि।

Android Nougat (Version 7.0)

Android का ये version August 22, 2016 को release हुआ था। इसके main feature – Split Screen, DOZE power saving mechanism और फ़ास्ट installation है इस version की हेल्प से users multi tasking कर सकते है जोकि एक बहुत बड़ा बदलाव है।

Android Oreo (Version 8.0)

Android का ये version August 21, 2017 को release हुआ था। इस version में भी features ऐ थे –  password autofill, notification dots, smart text selection, snooze notification. अगर आपकी कोई  notification आयी है या आपने रीड नहीं करी है तो App पे dot बना दिखेगा। इसके “picture to picture” feature में यह है कि अगर आप कोई Video देखते है और उसी समय आपको कुछ और भी कम करना है जैसे मेल भेजना है तो, home बटन दबाकर gmail खोलें, इससे आपकी video छोटी साइज की corner में चली जाएगी, जिससे आप video भी देख सकते है और साथ ही अपने ईमेल या कोई दूसरा काम भी कर सकते है।

Android Pie (Version 9.0)

On August 6, 2018 को ये Android version  “Pie” नाम से release हुआ था। Google Pixel devices के लिए यह update उपलब्ध था। design और security के मामले में google ने बहुत सरे chnges लाए थे, “Material design 2.0 concept” introduce हुआ, इसमें MicroSD कार्ड एक इंटरनल storgae की तरह भी यूज़ करने का ऑप्शन मिला वो भी फुल security के साथ।

Android 10

September 2019 को यह version release हुआ। यह android version अब हर device में उपलब्ध है और तो और worldwide भी उपलब्ध होने को है। इनके फीचर्स है – Live Caption, Smart Reply, Sound Amplifier, Gesture navigation, Dark theme. Live Caption में आपके फ़ोन में जो videos है उनपे live caption lag जाता है वो भी बिना data का उसे किये। smart reply से तात्पर्य है के अगर आपका फ्रेंड chat में कही घूमने को पूछ रहा है तो आपको google कुछ options देगा रिप्लाई करने का जैसे “ya sure”, “no” और तो और map का ऑप्शन भी देगा। यदि आप फ़ोन से पढ़ाई कर्रे हो या बात कर रहे हो तो sound amplifier हेल्प से आप noise को कम कर सकते है और साउंड की clearity और बढ़ा सकते है, इसके लिए आपको earphone lgane के बाद options दिखेंगे।

Android 11

19 February 2020 में यह version रिलीज़ हुआ, इनके features है –  A built-in screen recorder,  conversation notifications, Grant temporary permission to apps, etc. अगर आपने नोटिफिकेशन गलती से डिलीट कर दिया है तो आप setting में जाकर एक दिन की notifications देख  सकते है, आप अपने favourite app को share पेज में डाल सकते है जिससे के आप आसानी से इन  apps को ढूंढ पाएंगे, Schedule dark theme तो Android 10 version में ही introduce हो गयी थी लकिन Android 11 version में आप इस dark theme को schedule कर सकते है setting में जाकर , jaise अगर आप रात में dark theme यूज़ करना चाहें तो raat का time schedule कर लें।

आर्टिकल लिखते समय तो एंड्राइड का version यही तक है इसके आगे जब भी एंड्राइड का कोई नया वर्शन आता है तो उसे अपने लिस्ट के आगे ज़रूर जोड़ेंगे।

आशा है यह जानकारी आपके लिए सहायक होगी, अगर आप स्टूडेंट है तो यह जानकारी आपके लिए एक निबंध(Eassy) की तरह होगी। फ़िलहाल इसकी जानकरी तो हम सब के पास होनी चाहिए क्यूंकि आज यह तकनीक हमारे फ़ोन का हिस्सा ही है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

error: Content is protected !!
Exit mobile version